Categories: Vascular Surgery

क्या आप वैरिकाज़ नसों के बारे में जानते हैं?

जब त्वचा के नीचे की नसें फैल जातीं हैं, पतली और तनी हुई होती है, तो इसे वैरिकाज़ नस के रूप में जाना जाता है। नसों की दीवारों का पतला होना, भीतर के वाल्वों की विफलता के कारण होता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्त का जमाव होने लगता है, और उभरी हुई, पतली नसें दिखने लगती हैं जो तकलीफ देने लगती हैं। यह दिखाई दे भी सकती है और नहीं भी।

कारण:

  • यह ज्यादातर वंशानुगत होता है और परिवारों में चलता है
  • पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक प्रभावित होती हैं
  • एक से अधिक बार गर्भधारण
  • डीप वेन थ्रोम्बोसिस
  • मोटापा
  • लंबे समय से खड़े होने वाले काम करते रहने से

लक्षण:

  • पैरों में सूजन
  • पैरों में जलन, दर्द या ऐंठन
  • टखने के चारों ओर ब्राउन-ग्रे रंग का हो जाना
  • टांगों में दर्द या भारीपन महसूस होना
  • वैरिकाज़ नस के उपरी त्वचा में खुजली
  • टखने के आसपास घाव जो ठीक नहीं हो रहे (बाद के चरणों में)

निदान:

इसका निदान पैर की अल्ट्रासाउंड परिक्षण द्वारा किया जाता है। निम्नलिखित उपाय से असुविधा कम होती है और मौजूदा वैरिकाज़ नसों की समस्या धीमा करने में मदद करते हैं:

  • ज्यादा देर तक बैठे या खड़े न रहें
  • अपना वजन संतुलन में रखें
  • नियमित व्यायाम करें
  • कम्प्रेशन वाले मोज़े पहनें
  • तंग कपड़ों और ऊँची एड़ी के जूते/सैंडल से बचें

उपचार:

कम्प्रेशन वाले मोज़े के उपयोग के साथ आमतौर पर प्रारंभिक मामलों में राहत दी जाती है साथ ही जीवन शैली में बदलाव करवाया जाता है। जो रोगी ज्यादा रोगग्रस्त होते हैं उन्हें शिराओं के पृथक्करण की आवश्यकता होती है। पहले अधिक इनवेसिव शल्य चिकित्सा पद्धतियों को लागू किया गया था, अस्पतालों में भर्ती और बेहोश करने की दवा के साथ।

तकनीक के अपग्रेड होने पर और नए न्यूनतम इनवेसिव तौर-तरीकों की शुरूआत के साथ, एंडोवेनस लेजर एब्लेशन की तरह, इस प्रक्रिया को एक दिन देखभाल के आधार पर स्थानीय बेहोशी की दवा के तहत किया जाता है। फोम स्केलेरोथेरेपी के रूप में रासायनिक पृथक्करण का उपयोग लेजर थेरेपी के साथ संयोजन में किया जा रहा है।

एंडोवेनस लेजर पृथक्करण:

अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत डायोड लेजर फाइबर नस के अंदर रखा जाता है और इसे समाप्त कर दिया जाता है। इस प्रक्रिया में केवल 10-15 मिनट लगते हैं, और रोगी को इस प्रक्रिया के कुछ घंटों के भीतर ही छुट्टी दे दी जाती है। इस प्रक्रिया के उत्कृष्ट परिणाम निकले हैं और पारंपरिक सर्जिकल स्ट्रिपिंग प्रक्रिया से इसे बेहतर पाया गया है; इसमें रोगी को आराम भी मिलता है और इलाज भी सही होता है।

यह लेख डॉ. पिनाक दासगुप्ता, एमबीबीएस, एमएस, एफएनबी (न्यूनतम अभिगम), द्वारा नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, गुवाहाटी के लिए लिखा गया था।

Narayana Health

Recent Posts

Post Operative measures for Cardiac Patients

The heart is a muscular organ that pumps oxygen and nutrient-rich blood to our organs…

6 days ago

Benefits of Deep Breathing

Many doctors and yoga practitioners suggest deep breathing exercises to improve overall health and help…

1 week ago

Exercises that can strengthen your lungs

Breathing is one of the essential bodily functions. It is crucial for survival, but we…

1 week ago

What is Yoga Nidra and how can it help you?

Yoga Nidra is a deep relaxation practice that helps people who experience overwhelming emotions, insomnia,…

1 week ago

Superfoods for cleansing your lungs

A positive health and wellness mindset reduces the likelihood of getting sick and experiencing the…

2 weeks ago

What is Antibiotic Resistance and how to control it?

Antibiotics are medicines that kill or inhibit the growth of certain bacteria that cause infections…

2 weeks ago