Categories: Vascular Surgery

क्या आप वैरिकाज़ नसों के बारे में जानते हैं?

जब त्वचा के नीचे की नसें फैल जातीं हैं, पतली और तनी हुई होती है, तो इसे वैरिकाज़ नस के रूप में जाना जाता है। नसों की दीवारों का पतला होना, भीतर के वाल्वों की विफलता के कारण होता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्त का जमाव होने लगता है, और उभरी हुई, पतली नसें दिखने लगती हैं जो तकलीफ देने लगती हैं। यह दिखाई दे भी सकती है और नहीं भी।

कारण:

  • यह ज्यादातर वंशानुगत होता है और परिवारों में चलता है
  • पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक प्रभावित होती हैं
  • एक से अधिक बार गर्भधारण
  • डीप वेन थ्रोम्बोसिस
  • मोटापा
  • लंबे समय से खड़े होने वाले काम करते रहने से

लक्षण:

  • पैरों में सूजन
  • पैरों में जलन, दर्द या ऐंठन
  • टखने के चारों ओर ब्राउन-ग्रे रंग का हो जाना
  • टांगों में दर्द या भारीपन महसूस होना
  • वैरिकाज़ नस के उपरी त्वचा में खुजली
  • टखने के आसपास घाव जो ठीक नहीं हो रहे (बाद के चरणों में)

निदान:

इसका निदान पैर की अल्ट्रासाउंड परिक्षण द्वारा किया जाता है। निम्नलिखित उपाय से असुविधा कम होती है और मौजूदा वैरिकाज़ नसों की समस्या धीमा करने में मदद करते हैं:

  • ज्यादा देर तक बैठे या खड़े न रहें
  • अपना वजन संतुलन में रखें
  • नियमित व्यायाम करें
  • कम्प्रेशन वाले मोज़े पहनें
  • तंग कपड़ों और ऊँची एड़ी के जूते/सैंडल से बचें

उपचार:

कम्प्रेशन वाले मोज़े के उपयोग के साथ आमतौर पर प्रारंभिक मामलों में राहत दी जाती है साथ ही जीवन शैली में बदलाव करवाया जाता है। जो रोगी ज्यादा रोगग्रस्त होते हैं उन्हें शिराओं के पृथक्करण की आवश्यकता होती है। पहले अधिक इनवेसिव शल्य चिकित्सा पद्धतियों को लागू किया गया था, अस्पतालों में भर्ती और बेहोश करने की दवा के साथ।

तकनीक के अपग्रेड होने पर और नए न्यूनतम इनवेसिव तौर-तरीकों की शुरूआत के साथ, एंडोवेनस लेजर एब्लेशन की तरह, इस प्रक्रिया को एक दिन देखभाल के आधार पर स्थानीय बेहोशी की दवा के तहत किया जाता है। फोम स्केलेरोथेरेपी के रूप में रासायनिक पृथक्करण का उपयोग लेजर थेरेपी के साथ संयोजन में किया जा रहा है।

एंडोवेनस लेजर पृथक्करण:

अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत डायोड लेजर फाइबर नस के अंदर रखा जाता है और इसे समाप्त कर दिया जाता है। इस प्रक्रिया में केवल 10-15 मिनट लगते हैं, और रोगी को इस प्रक्रिया के कुछ घंटों के भीतर ही छुट्टी दे दी जाती है। इस प्रक्रिया के उत्कृष्ट परिणाम निकले हैं और पारंपरिक सर्जिकल स्ट्रिपिंग प्रक्रिया से इसे बेहतर पाया गया है; इसमें रोगी को आराम भी मिलता है और इलाज भी सही होता है।

यह लेख डॉ. पिनाक दासगुप्ता, एमबीबीएस, एमएस, एफएनबी (न्यूनतम अभिगम), द्वारा नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, गुवाहाटी के लिए लिखा गया था।

Narayana Health

Recent Posts

Oral Rehydration

Dehydration is a common complication of childhood illnesses. It can occur due to vomiting, diarrhoea…

1 week ago

Diabetes Mellitus

Diabetes mellitus or “madhumeham”: a disease related to “Sweetness”. The principal hormone, Insulin produced by…

2 weeks ago

Know about uterine fibroids: Signs, Symptoms, Causes and Treatment

Uterine fibroids or leiomyomas or myomas are non-cancerous growths of the uterine muscles. They most…

4 weeks ago

Cervicogenic Headaches

Cervicogenic headaches are 2-3 times more common in females. Many years ago, it was more…

1 month ago

Dos and Don’ts for Healthy Pregnancy

Pregnancy is one of the milestones not only for a mother but for the entire…

1 month ago

All you need to know about Sleep Study

What is a sleep study? How is a Sleep study done? Are sleep studies painful?…

1 month ago