Categories: Cardiology

नींद संबंधी विकार और हृदय संबंधी रोगों के खतरों में बढ़ोत्तरी

हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ आहार और व्यायाम स्वस्थ जीवन की ओर जाता है। लेकिन पर्याप्त नींद लेना स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। नींद शरीर को आराम करने और ऊर्जा बहाल करने की मदद करती है। साथ ही साथ, शारीरिक और मनोवैज्ञानिक कार्य भी शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। नींद की मात्रा और गुणवत्ता जगे रहते समय सर्वोत्तम सजगता बनाए रखने में मदद करती है। हालांकि प्रत्येक व्यक्ति की नींद की आवश्यकता भिन्न होती है, एक वयस्क को दिन में आठ घंटे सोना चाहिए। जबकि बच्चों को 8 घंटे से अधिक नींद की आवश्यकता होती है।

आजकल, विभिन्न कारणों से कई लोगों को पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं मिलती है और लंबे समय तक नींद से वंचित हो जाते हैं। कुछ लोग नींद संबंधी विकार जैसे निद्रारोग और अन्य बीमारियों से पीड़ित होते हैं। सामान्यतः बहुत से कारणों से नींद का स्वरुप बाधित हो सकता है:

  • तनाव पूर्ण जिंदगी
  • परिवार की मांग या अधिक व्यस्त कार्यक्रम
  • हार्मोनल प्रभाव और शरीर के तापमान में परिवर्तन (मासिक धर्म के समय, मासिक धर्म का बन्द होना और डिंबोत्सर्जन)
  • आहार नियंत्रण (डाइटिंग)
  • गर्भावस्था
  • नींद में बार-बार सांस रुकना और शुरू होना (स्लीप एपनिया) और रेस्टलेस लेग सिंड्रोम) जैसे नींद विकार
  • अवसाद और चिंता
  • थकान

नींद संबंधी विकार:

70 से अधिक के लोगों में नींद संबंधी विकार पाया गया है। पांच सबसे आम विकारों में से है:

  1. अनिद्रा: यह सबसे आम नींद विकार है। इसे रात में सोने में या नींद को बनाए रखने में कठिनाई के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। अनिद्रा के अन्य लक्षणों में बहुत जल्दी जागना और रात की नींद का अनुभव न करने के कारण वापस सोने में असमर्थ होना शामिल है। परिणाम थकान, एकाग्रता में परेशानी, खिन्नता और नींद विकार से स्लीप एपनिया।
  2. औंघाई (नार्कोलेप्सी): दिन के दौरान इस स्थिति में रोगी को अचानक नींद आ जाती है। किसी भी उम्र के दोनों लिंगों में औंघाई आना आम है। यह पहली बार किशोरावस्था और युवावस्था में देखा जाता है। कुछ साक्ष्यों का कहना है कि औंघाई परिवार की पीढ़ी में चल सकता है। हाल के शोधों से पता चला है कि औंघाई मस्तिष्क में एक रसायन की कमी के कारण है जिसे संवाद करने के लिए तंत्रिका कोशिकाओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले छोटे प्रोटीन जैसे अणु (न्यूरोपैप्टाइड) जो उत्तेजना, जागने और भूख को नियंत्रित करता है (हाइपो-क्रेटिन) के रूप में जाना जाता है। औंघाई के अन्य संबंधित लक्षण हैं: ए) चिकित्सा स्थिति जिसमें हंसी आदि व्यक्ति को अचानक शारीरिक पतन का सामना करने का कारण बनती है, हालांकि शेष भाग में होश रहता है (कैटाप्लेक्सी) बी) सोते समय या जागने पर हिलने या बोलने की अस्थायी अक्षमता (स्लीप पैरालिसिस) सी) सम्मोहन संबंधी मतिभ्रम (हाइपानोगॉजिक मतिभ्रम), आदि।
  3. स्लीप-एपनिया: नींद विकार से श्वासरोध एक गंभीर संभावित जान के लिए खतरे की स्थिति है। यह सोते समय वायु प्रवाह में बार बार आने वाली संक्षिप्त बाधा है। बाधाकारी श्वासरोध सबसे सामान्य प्रकार है। यह तब होता है जब वायुमार्ग में अत्यधिक ऊतकों/बढ़े हुए टॉन्सिल/बड़े युवुला के कारण वायु प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है और इसे संकीर्ण बनाता है। यह मुंह और नाक के अंदर और बाहर के वायुप्रवाह को परेशान करता है, साथ ही साथ इससे सांस लेने में मुश्किल होती है। इसके परिणामस्वरूप भारी खर्राटे, वायुप्रवाह में ठहराव, कम ऑक्सीजन स्तर, कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ सकता है। यह सभी आयु समूहों और दोनों लिंगों में होता है लेकिन पुरुषों में सबसे आम है। हालांकि जो लोग खर्राटे लेते हैं वे सभी नींद की अस्त व्यस्तता से श्वास रोध से ग्रसित नहीं होते हैं।
  4. रेस्टलेस लेग सिंड्रोम (आरएलएस): आरएलएस एक नींद विकार है जिसमें हाथों और पैरों में अप्रिय संवेदना होती है। संवेदना को अक्सर रेंगने, घिसटना, झुनझुनी, खींचने और दर्दनाक जलन के रूप में वर्णित किया जाता है। लेटते या लंबे समय तक बैठे रहने पर ये लक्षण प्रमुख हैं। हाथों और पैरों के अलावा यह संवेदना जननांग क्षेत्र, चेहरा और धड़ में भी हो सकती है। यह आपके पैरों को हिलाने को तीव्र संकेत देता है और नींद को लगभग असंभव बना देता है। आरएलएस के लक्षण बेहतर हो सकते हैं और समय बीतने पर आने वाले सालो में फिर से सुधार आ सकता है। अधिकतर आरएलएस संबंधित नींद विकार को नियत काल से अंग हिलनेवाला विकार (पीएलएमडी) भी कहा जाता है।
  5. सर्कैडियन ताल विकार: इससे तात्पर्य उन स्थितियों के एक समूह से है जो शरीर के प्राकृतिक मनोवैज्ञानिक और जैविक लय को बाधित करता है। यह आमतौर पर पारी में काम करनेवाले श्रमिक (जो आमतौर पर गैर-पारंपरिक घंटों के लिए काम करते हैं) में पाया जाता है जो कि इन स्थितियों के लिए कमजोर होते हैं। इसके अलावा, यह आमतौर पर विरल यात्रियों में पाया है जो विमान यात्रा से थके (जेट लैग), अनियमित नींद पैटर्न, किशोरों और आनुवंशिक प्रवृत्ति वाले लोगों पाया जाता है।

हृदय रोग:

  1. नींद की समस्या अलिंद विकम्पन (एएफ) नामक स्थिति पैदा करती है। हृदय में कोशिकाओं का समूह (साइनस गाँठ) का एक हिस्सा विद्युत आवेग भेजता है जो हृदय के स्पंदन गतिविधि को नियंत्रित करता है। वायुमार्ग इन आवेगों में गड़बड़ी पैदा करती है जिससे आघात होता है। कमजोरी लाने वाली स्थिति जो लोगों के बोलने, खाने और बातचीत करने की क्षमता को प्रभावित कर सकती है।
  2. नींद की अस्त व्यस्तता से श्वासरोध के कारण, असामान्य हृदय की धड़कन सांस लेने को प्रभावित करती है इसलिए रक्त में ऑक्सीजन का स्तर कम होता है।
  3. प्राकृतिक सर्कैडियन लय (शरीर की घड़ी-चक्र) से ताल नहीं मिलाना भी हृदय तथा रक्तवाहिकाओं संबंधी रोग के लिए एक बड़ा जोखिम है।

डॉ। आरिओम कर, सलाहकार – वयस्क हृदयरोग विशेषज्ञ, नारायणा मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल, बारासात

Narayana Health

Recent Posts

Neck Pain & Cervical Spondylosis

Cervical spondylosis is a non-specific word that describes the changes which can affect the spine…

2 days ago

Soft Tissue Sarcoma

Cancer arising in the Mesenchymal tissue (Connective Tissue), known as Sarcoma. And the sarcoma arising…

3 days ago

Comprehensive and compassionate liver care for children

What is Jaundice? Jaundice is a yellow discolouration of the skin and whites of the…

5 days ago

Kidney Cancer: How much are we aware?

World Kidney Cancer Day reminds us to stay healthy and fit. This is also an…

1 week ago

Maternal Mortality

What is maternal mortality? As defined by the World Health Organization (WHO), “Maternal death is…

1 week ago

COVID crisis and effective management of thalassemia

Unprecedented changes caused by the COVID pandemic have been giving far tougher time to the…

2 weeks ago