Categories: Pulmonology

श्वसन संबंधी रोग: कारण, लक्षण और निवारक उपाय

जब हम स्वस्थ होते हैं तो हम अपने साँस लेने को गंभीरता से नहीं लेते हैं और पूरी तरह से इस बात की सराहना नहीं करते हैं कि फेफड़े हमारे जीवन के लिए आवश्यक अंग हैं। लेकिन जब हमारे फेफड़ों का स्वास्थ्य बिगड़ जाता है तब हमें पता चलता है कि सांस लेने के अलावा कुछ भी मायने नहीं रखता है। फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए यह दर्दनाक वास्तविकता है-एक ऐसी स्थिति जो दुनिया के हर कोने में हर उम्र के लोगों को प्रभावित करती है। फेफड़े के रोग लाखों को मारते हैं और लाखों को पीड़ित करते हैं। हमारे फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए खतरा हर जगह है, और वे कम उम्र में शुरू होते हैं जब हम सबसे ज्यादा चपेट में आने वाले होते हैं। सौभाग्य से इनमें से कई खतरे टालने योग्य हैं और उनका उपचार किया जा सकता है। अभी सक्रियता दिखा कर हम खुद को और कई लोगों को बचा सकते हैं।

श्वसन रोग एक भारी स्वास्थ्य बोझ का कारण बनता है। यह अनुमान है कि दुनिया भर में 235 मिलियन लोग अस्थमा से पीड़ित हैं, 200 मिलियन से अधिक लोगों को पुराने बाधाकारी फेफड़ा-संबंधी रोग (सीओपीडी) है, 65 मिलियन मध्यम-से-गंभीर सीओपीडी से पीड़ित होते हैं, 1-6% वयस्क आबादी (100 मिलियन से अधिक लोग) नींद में अव्यवस्थित साँस लेने का विकार, 9.6 मिलियन लोग प्रतिवर्ष तपेदिक से पीड़ित होते हैं, लाखों फेफड़ा-संबंधी उच्च रक्तचाप के साथ जीते हैं और 50 मिलियन से अधिक लोग कार्यस्थल में होने वाले फेफड़ों की बीमारियों से जूझते हैं, कुल 1 अरब से अधिक लोग पुरानी श्वसन बीमारियों से पीड़ित होते हैं। बायोमास ईंधन की खपत के विषाक्त प्रभाव से कम से कम 2 बिलियन लोग प्रभावित होते हैं, 1 अरब लोग बाहरी वायु प्रदूषण के संपर्क में आते हैं और 1 बिलियन लोग तंबाकू के धुएं के संपर्क में आते हैं। प्रत्येक वर्ष 4 मिलियन लोग पुरानी सांस की बीमारी से समय से पहले मर जाते हैं।1

भारत में परिस्थिति उतना ही चिंताजनक है। वर्तमान में भारत के कुछ शहर दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से हैं और हम इसका बुरा प्रभाव देख रहे हैं। असम में सिगरेट पीने का प्रचलन बहुत अधिक है और बढ़ते प्रदूषण से कई श्वसन रोग हो रहे हैं।

जब हम श्वसन रोगों के लक्षणों के बारे में बात करते हैं तो खांसी, सांस की तकलीफ, सीने में दर्द और हिमोपटाइसिस (बलगम में खून आना) प्रमुख लक्षण हैं। खांसी लंबे समय तक बलगम और कभी-कभी बलगम में खून के साथ भी मौजूद हो सकती है। थूक में रक्त की उपस्थिति एक अशुभ संकेत है और रोगी की ठीक से जांच की जानी चाहिए। अस्थमा के रोगी में आमतौर पर कफ के साथ बलगम मौजूद होता है और साथ ही मौसम में बदलाव के साथ यह बदलता रहता है। सीओपीडी के रोगी में कफ के साथ बलगम मौजूद होता है जिसमें जल्दी थकावट हो जाती है, जो धीरे-धीरे बढते जाते हैं यदि इसका ठीक से इलाज न किया जाए। तपेदिक एक बहुत ही आम बीमारी है और रोगी आमतौर पर खांसी, बलगम, बलगम में खून आने, वजन घटने और अन्य कई लक्षणों से पीड़ित होते हैं।

फेफड़े का कैंसर वर्तमान में पुरुषों और महिलाओं दोनों में दूसरा सबसे आम कैंसर है। सिगरेट धूम्रपान फेफड़ों के कैंसर का प्रमुख कारण है। धूम्रपान न करने वालों में या रेडॉन के संपर्क में आने, वायु प्रदूषण और एस्बेस्टोस के संपर्क में आने आदि के कारण विकसित हो सकता है। फेफड़े के कैंसर के रोगी आमतौर पर खांसी, बलगम में खून आने, वजन घटने, फुफ्फुस गुहा में द्रव के जमा होने संचय आदि से प्रभवित होते हैं। रोग का निदान आमतौर पर मुश्किल होता है अगर मरीज अपनी बीमारी के अंतिम चरण में होते हैं।

तो यह कहना समझदारी है कि अगर किसी भी मरीज में ये लक्षण हैं तो उन्हें फुफ्फुसीय रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। इनमें से कई रोगियों को छाती के एक्स-रे, सीटी स्कैन, ब्रोंकोस्कोपी, फुफ्फुस बायोप्सी, पॉलीसोम्नोग्राफी (नींद की बीमारी वाले रोगियों के लिए) और कई अन्य उन्नत जांचों की आवश्यकता होती है।

सामान्य चिकित्सकों को अपने प्रतिदिन के दिनचर्या में सांस की बीमारियों के बहुत सारे मामले मिलते हैं। जब एक मरीज अक्सर उत्तेजना के साथ सीओपोडी, गंभीर अस्थमा, आइएलडी, एक्सरे में टीबी होने की संभावना होने लेकिन बलगम जाँच में नकारात्मक होने, ठीक ना होने वाले निमोनिया से पीड़ित हो तो इन मामलों को एक फुफ्फुसीय रोग विशेषज्ञ को मिलना चाहिए। अंतिम बताए दो स्थितियों को आगे के मूल्यांकन और अन्य उन्नत परीक्षणों के लिए ब्रोंकोस्कोपी की आवश्यकता होगी।

निवारण के उपाय: दुनिया भर में सांस की बीमारियों का सबसे महत्वपूर्ण कारण सिगरेट पीना है। इसलिए धूम्रपान बंद करना बेहद जरूरी है। आज की दुनिया में वायु प्रदूषण भी एक महत्वपूर्ण समस्या है, इसलिए फेस मास्क के उपयोग की भी ज्यादा सिफारिश की जाती है। कुछ रोगियों में कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थ खाने या ठंड के संपर्क में आने से अस्थमा का दौरा पड़ सकता है। इस कारण उन रोगियों के लिए इन स्थितियों से बचने का सुझाव दिया जाता है।

निष्कर्ष के तौर पर  श्वसन रोगों से समाज में गंभीर समस्याएं पैदा होती हैं और इन रोगों से उत्पन्न चुनौतियों को कम करने के लिए सभी चिकित्सक समुदाय और समाज से प्रयास की आवश्यकता होती है।

संदर्भ: 1) दुनिया में श्वसन संबंधी बीमारियां आज की वास्तविकताएं – कल के लिए अवसर।

डॉ. मृदुल कुमार सरमा | सलाहकार – पल्मोनोलॉजी | नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुवाहाटी

Narayana Health

Recent Posts

Why do we need the Booster Shot of Covid vaccine?

As we know, the government has approved the use of booster or precaution dose against…

4 days ago

Cervical Cancer

Cancer is a  group of diseases in which body cells start to grow abnormally and…

1 week ago

Helping your child with vaccine fear & anxiety

The COVID-19 pandemic has put the whole world in great danger we have never witnessed…

1 week ago

Planning to opt for IVF? Start exercising to boost immunity

With the latest advancement in medical science, many solutions are available for treating infertility. IVF…

2 weeks ago

Revised guidelines for home isolation

Recently the world has witnessed a surge in the new COVID cases; India is no…

2 weeks ago

Liver Health

The liver is the second largest organ in our body after skin. It is the…

2 weeks ago