Categories: Nephrology

जितना आपको लगता है गुर्दे की पथरी का होना उससे भी आम बात है

गुर्दे की पथरी का होना एक आम स्वास्थ्य समस्या है और यह 11 व्यक्तियों में से लगभग 1 को हो ही जाता है।

गुर्दे की पथरी कैसे बनते हैं?

जब मूत्र में कैल्शियम, ऑक्सालेट, यूरिक एसिड और सिस्टीन जैसे कुछ पदार्थों का कंसंट्रेशन बढ़ने लगता है, तो वे क्रिस्टल बनाने लगते हैं जो गुर्दे से जुड़ने लगते हैं और धीरे-धीरे आकार में बढ़ कर पथरी का रूप लेने लगते हैं।

पथरी कितने प्रकार की होती हैं?

80% पथरी कैल्शियम के बने पत्थर होते हैं, और कुछेक कैल्शियम ऑक्सालेट तथा कुछ कैल्शियम फॉस्फेट के होते हैं।

बाकी पत्थर यूरिक एसिड पत्थर, संक्रमण पत्थर और सिस्टीन पत्थर होते हैं।

पथरी बनने के जोखिम कारक:

  1. कुछ बीमारियों, दवाओं, गलत आहार की आदतों से पथरी बनने की संभावना बढ़ जाती है जैसे-
  2. मूत्र में कैल्शियम या ऑक्सालेट की अत्यधिक मात्रा।
  3. आहार में कम कैल्शियम, उच्च मात्रा में ऑक्सालेट्स वाले आहार, पशु प्रोटीन ज्यादा मात्रा में या आहार में ज्यादा मात्रा में सोडियम का सेवन जैसे कारक।
  4. कम पानी पीने से और तरल पदार्थ की कमी से निर्जलीकरण होने पर।
  5. कैल्शियम, विटामिन डी और विटामिन सी की अत्यधिक खुराक लेने पर।
  6. मधुमेह, उच्च रक्तचाप, मोटापा, गाउट, हाइपरपरथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों में या जिनकी गैस्ट्रिक बाईपास या बैरियाट्रिक सर्जरी हुई है उन लोगों में पथरी होने की शिकायत अधिक होती है, ।
  7. वंशानुगत कारक: सिस्टीन जैसे कुछ पत्थर परिवार के सदस्यों में पाए जाते हैं जो आनुवंशिक विकारों के बारे में बताते हैं।
  8. बार-बार पथरी का होना – यदि किसी को पहले से गुर्दे की पथरी की शिकायत रही है, तो भविष्य में फिर से दूसरी पथरी होने का खतरा अधिक होता है, खासकर पुरुषों में। 10 – 30% पुरुष अगले 5 साल में फिर से पत्थर का शिकार हो सकते हैं।

लक्षण:

यह पत्थरों के आकार और उनके स्थान पर निर्भर करता है।

पथरी की वजह से जो सबसे आम लक्षण उभरते हैं वो है पेट या उसके निचले हिस्से में दर्द का होना जो कमर तक बढ़ सकता है। पत्थर निकालते समय दर्द का होना सबसे आम है। इसमें गंभीर कष्टदायी दर्द की लहरें भी उठतीं हैं जिसे  ‘वृक्क शूल’ कहा जाता है जो 20-60 मिनट तक रहता है।

पेशाब करने में कठिनाई, मूत्र में रक्त या उल्टी हो सकती है।

मूत्र से रेत जैसे कठोर कण निकल सकते हैं।

पथरी मूत्र के रास्ते में फंसा रह सकता है जिससे पेशाब कर्मे में बाधा उत्पन्न होती है और दर्द होता है।

गुर्दे में अगर पथरी बहुत छोटा हो तो वे रुकावट पैदा नहीं करते हैं, जिससे पथरी का कोई लक्षण नहीं दिखता है।

निदान:

गुर्दे की पथरी का निदान अल्ट्रासोनोग्राफी या सीटी स्कैन द्वारा किया जाता है। एक्स-रे और इंट्रावेनस पाइलोग्राफी भी निदान के लिए उपयोगी होते हैं।

सीटी स्कैन अधिक सटीक होता है लेकिन रोगी को विकिरण का सामना करना पड़ता है।

पथरी किस प्रकार का है यह जानने के लिए, कैल्शियम / ऑक्सालेट / यूरिक एसिड और साइट्रेट का 24 घंटे का मूत्र आकलन आवश्यक होता है।

मूत्र में संक्रमण है या नहीं या मूत्र अम्लीय अथवा क्षारीय है, यह देखने के लिए मूत्र की जाँच उपयोगी है।

उपचार:

पथरी का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि मूत्र पथ में पत्थर का आकार कितना है और किस स्थान पर है।

5 मिमी से कम की पथरी आमतौर पर विशिष्ट उपचार के बिना बाहर निकल जाते हैं। तरल पदार्थ का सेवन और दर्द निवारक दवाएं लेने की आवश्यकता होती है।

गुर्दे की बीमारी गंभीर हो जाने पर इंट्रावेनस तरल पदार्थ और अन्य दवाएं लेने के साथ-साथ उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती होने की भी आवश्यकता होती है।

बड़ी पथरी यानी 9 मिमी से अधिक के लिए पर्क्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटोमी या शॉक-वेव लिथोट्रिप्सी द्वारा ऑपरेशन करके निकलने की आवश्यकता हो सकती है।

लगभग 10-20% पथरी के मामलों में सर्जरी की आवश्यकता होती है।

बचाव:

  • आहार और आदतों में कुछ बदलाव करके गुर्दे की पथरी को रोका जा सकता है
  • अच्छा मूत्र प्रवाह बनाए रखने के लिए सही मात्रा में पानी पीना चाहिए। प्रति दिन कम से कम 7- 8 गिलास पानी जरुर पीना चाहिए।
  • आहार में कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा होनी चाहिए। दूध, दही, दाल, संतरे और अन्य डेयरी उत्पाद कैल्शियम से भरपूर होते हैं
  • सही मात्रा में प्रोटीन खाएं- आमतौर पर दैनिक प्रोटीन की जरूरत प्रति दिन 2-3 सर्विंग से पूरी हो जाती है।
  • अपने भोजन में सोडियम की मात्रा 2-3 ग्राम तक कम करें। प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ जैसे कि हॉट डॉग, चटनी, ड्राई सूप, अचार इत्यादि कम-से-कम खाएं क्योंकि इनमें नमक अधिक मात्रा में होता है
  • विटामिन सी की अत्यधिक खुराक से बचें क्योंकि विटामिन सी से ऑक्सालेट उत्पन्न होता है जिसके फलस्वरूप मूत्र में बड़ी मात्रा में ऑक्सालेट की मात्रा बढ़ सकती है।
  • पालक, बादाम, मूंगफली, अखरोट, बटर, ब्लूबेरी जैसे ऑक्सालेट्स से भरे खाद्य पदार्थों के सेवन से भी बचें।
  • डॉक्टर की सलाह के बिना विटामिन डी की खुराक न लें
  • नियमित व्यायाम से ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर और शरीर के वजन को नियंत्रित करें क्योंकि इनसे पथरी होने का खतरा कम होता है।

डॉ. दीपक शंकर रे, कंसल्टेंट – नेफ्रोलॉजिस्ट और रेनल ट्रांसप्लांट के प्रमुख, रबींद्रनाथ टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियक साइंसेज, मुकुंदपुर, कोलकाता

Narayana Health

Recent Posts

Cyberchondria – How to cope with it

With the development of internet communication and information technology, we gained access to different levels…

4 hours ago

Your Child’s Mental Health

Mental health is a topic we generally ignore due to some pre-existing dilemma. Emotional well-being…

3 days ago

Health benefits of Eggplant

Eggplant, aubergine, or brinjal is a perennial fruit of the nightshade family, making them a…

3 days ago

Get Monsoon Ready

The thought of rain brings childhood memories, children playing, various seasonal fruits, lots of sweets,…

5 days ago

Health Benefits of Grapes

Grapes are botanically berry fruit of the genus Vitis plants, which can be round, elongated,…

6 days ago

How to help your loved ones recover from the critical care unit

Critical care or intensive care is the medical supervision for people with severe life-threatening conditions…

6 days ago