Categories: Paediatrics

यदि आपका बच्चा देर से चलना शुरू करता है तो क्या यह चिंताजनक बात है?

बच्चे जब चलना शुरू करते हैं तब कई माता-पिता बड़े उत्सुक होते हैं। वे चलने के पैटर्न, बार-बार गिरने, किसी भी स्पष्ट विकृति और कभी-कभी चलने में देरी के बारे में चिंतित होते हैं। औसतन, बच्चा अपने पहले जन्मदिन के समय आसपास चलना शुरू कर देता है।  इस मील के पत्थर को 8 महीने की शुरुआत से लेकर 18 महीने के समय में प्राप्त किया जा सकता है। बोलेग्स, टू-टिंग गैट यानी एक-दूसरे की ओर पैर रखकर चलना और सपाट पैर सबसे आम चिंताएं हैं जब माता-पिता क्लिनिक पहुंचते हैं।

बोलेग्स (जेनु वरुम): बोलेग्स जन्म के समय शरीर-क्रियात्‍मक होते हैं। जब बच्चा 1.5 वर्ष के आसपास होता है तब घुटने लगभग सीधे हो जाते हैं। फिजियोलॉजिकल नॉक घुटनें (जेनु वरुम) को लगभग 4 साल की उम्र में देखा जा सकता है जो धीरे-धीरे 7 साल की उम्र तक वयस्क घुटने के पैटर्न तक पहुंच जाता है। एकपक्षीय विकृति, अन्य बीमारियों या कमियों से जुड़ी जो शारीरिक पैटर्न का पालन नहीं करती हैं, उनके लिए मूल्यांकन की आवश्यकता होती है।

पैर की अंगुली की पट्टी: माता-पिता अक्सर बच्चे के चलने के पैटर्न के बारे में चिंतित होते हैं। पैर की अंगुली का मरोड़ सबसे आम शिकायत है। इन बच्चों में से अधिकांश में, जांघ की हड्डी (ऊरु का विसर्जन) की लगातार भ्रूण स्थिति के कारण विकृति हिप स्तर पर होती है। इन बच्चों में क्रॉस-लेग्ड बैठने की जगह डब्लू- पैटर्न में बैठना देखा जाता है। निरंतर ऊरु का विसर्जन किसी भी सक्रिय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं है और आमतौर पर समय के साथ अपने आप हल हो जाता है।

सपाट पैर (पेस प्लैनस): भ्रूण की चर्बी पैरों को सपाट बना देती है और 3 साल की उम्र तक बनी रह सकती है। पैरों के सामान्य मेहराब आमतौर पर 3 साल की उम्र तक देखे जाते हैं। शोधकर्ताओं ने दिखाया है कि जो बच्चे नंगे पैर घूमते हैं उनकी तुलना में सपाट पैर उन बच्चों में आम है जो लगातार जुते-चप्पल पहनते हैं। सामान्यीकृत अस्थिबंध शिथिलता एक अन्य स्थिति है जहां बच्चा सपाट पैरों के साथ नजर आ सकता है। कई बच्चों को सपाट पैरों के लिए मेहराब वाले जूते निर्धारित किये जाते हैं, इनमें से ज्यादातर मामलों में, वे किसी काम के नहीं होते हैं। यह साबित करने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि ये आवेषण एक सामान्य आर्च बनाते हैं।

इनमें से अधिकांश स्थितियाँ बिना किसी हस्तक्षेप के विकास के साथ हल हो जाती हैं। माता-पिता को यह समझने की आवश्यकता है कि ये शारीरिक पैटर्न हैं और इसमें किसी भी हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती है।

डॉ. सरवती विश्वनाथन, सलाहकार – हड्डी रोग और दर्द प्रबंधननारायणा मेडिकल सेंटर, लैंगफोर्ड टाउन,बैंगलोर

Narayana Health

Recent Posts

Tomato Flu

Recently, a new viral disease called tomato flu detested in some parts of Kerala. All…

5 hours ago

Hypertension

According to WHO, blood pressure is the force exerted by the circulating blood against the…

2 days ago

Flat Feet – Types, Causes and Treatment

The human feet contain numerous muscles, tendons, bones, and soft tissues that enable us to…

3 days ago

World Melanoma and Skin Cancer Awareness Month

The skin is our body's largest organ and protects us from many disease-causing pathogens, balances…

4 days ago

World Ovarian Cancer Day

The almond-shaped ovaries are one of the parts of the primary female reproductive organ. Ovaries…

2 weeks ago

Health benefits of Yam

Yam is a tubular vegetable of the Dioscorea family. In India, it is famous as…

2 weeks ago