Categories: Spine Surgery

इंडोस्कोप द्वारा मेरुदंड की शल्यचिकित्सा: नवीनतम तकनीकी प्रगति का उपयोग

रीढ़ की हड्डी के अधिकांश शल्य प्रक्रियाओं में शल्यचिकित्सक द्वारा रोगग्रस्त क्षेत्र में प्रत्यक्ष जोड़-तोड़ (मेनिपुलेशन) या पुनर्निर्माण या प्रतिस्थापन शामिल है शल्यक क्षेत्र के बारे में स्पष्टता रखना, शल्यक लक्ष्यों को पूरा करने की पहली आवश्यकता है। ऐतिहासिक रूप से, रीढ़ की हड्डी की गहरी संरचनात्मक स्थिति के कारण त्वचा पर बड़े चीरे, उत्तकों का चीर-फाड़ और कई बार यहां तक कि महत्वपूर्ण हड्डी को भी हटाया जाता है। इसका समग्र प्रभाव गंभीर जटिलताओं और मरीज द्वारा संतुष्टि दर का कम होना रहा है।

इंडोस्कोप द्वारा मेरुदंड की शल्यचिकित्सा एक अत्याधुनिक न्यूनतम-व्यापक रीढ़ की शल्यचिकित्सा प्रणाली है जिसने पीठ और गर्दन के विकारों के उपचार में क्रांति ला दी है। इसमें एक मिलीमीटर लंबी त्वचा के चीरे के माध्यम से छोटे नली का उपयोग किया जाता है, जिसमे देखने के लिए उच्च-क्षमता वाला कैमरा (जिसे एंडोस्कोप कहा जाता है) लगा होता है। इसका मतलब है:

  • सामान्य एनेस्थेसिया की कोई आवश्यकता नहीं
  • रीढ़ हड्डी के रोगग्रस्त भाग के आसपास स्वस्थ ऊतकों की न्यूनतम क्षति
  • खून की थोड़ी सी कमी
  • रीढ़ की हड्डी के सामान्य गति का संरक्षण
  • तत्काल ठीक होना
  • कम दर्द
  • कम दवाएं
  • कम जटिलताएं
  • कुल मिलाकर बेहतर नैदानिक परिणाम

जिस प्रकार लैप्रोस्कोपी ने पित्ताशय की पथरी के शल्यक प्रबंधन में क्रांति ला दी है उसी तरह एंडोस्कोपी रीढ़ की हड्डी के विकारों के प्रबंधन में क्रांति ला रहा है। अनुभवी हाथों द्वारा अधिकांश एंडोस्कोपिक रीढ़ की हड्डी की प्रक्रियाओं को बाहरी मरीजों के आधार पर किया जा सकता है, इसमें एक घंटे से भी कम समय लगता है और रोगी घूम सकता है, खा सकता है और पी सकता है, वॉशरूम का उपयोग कर सकता है, यहां तक कि शल्यचिकित्सा के कुछ घंटों बाद दैनिक जीवन की दिनचर्या में वापस आ सकता है। इसके अलावा, शल्यक चीरा इतना छोटा होता है कि इसे ढँकने के लिए केवल एक छोटी पट्टी की जरूरत होती है।

आम भाषा में, इंडोस्कोप द्वारा मेरुदंड की शल्यचिकित्सा नवीनतम तकनीकी प्रगति के उपयोग को दर्शाती है और हमारे अस्पताल में मेरुदंड की शल्यचिकित्सा का दल इसका उपयोग उन मरीजों के जीवन में वह सब कुछ वापस लाती है जिनका जीवन पीठ या गर्दन के दर्द के कारण प्रभावित होता है।

लेखक डॉ राजेश के वर्मा, हड्डी रोग निदेशक – जोड़ प्रतिस्थापन और रीढ़ की सर्जरी, नारायणा सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम 

Narayana Health

Recent Posts

How families can help support breastfeeding moms

In a woman's life, milestones like pregnancy, childbirth, breastfeeding, and emotional connection with the little…

20 hours ago

Know about Tinnitus

Everyone can experience a ringing sound in their ears once in a while that may…

2 days ago

Health benefits of Mint

Whenever someone mentions mint, our brain immediately recalls its fresh cooling effect. Mint or pudina…

4 days ago

Kala-Azar

Kala-Azar is a condition caused due to leishmania parasite infections. It may affect the internal…

4 days ago

Health Benefits of Cluster Beans

Cluster beans, or Guar beans or Gawar beans, are annual legumes. They are a popular…

1 week ago

Does poor sleep make you feel older?

Does poor sleep make your feel older? When you wake up in the morning, do…

2 weeks ago