Categories: Paediatrics

बचपन का मोटापा

बचपन का मोटापा भारत में अब एक महामारी है । 14.4 मिलियन मोटे बच्चों के साथ चीन के बाद दुनिया में सबसे ज्यादा मोटे बच्चें के मामले में भारत दूसरे नंबर पर है । बच्चों में अधिक वजन और मोटापे का प्रसार 15% है। निजी विद्यालय में उच्च आय वाले परिवारों के खानपान को देखते हुए , यह संख्या 35-40% तक बढ़ गई है और यह बढ़ता हुआ प्रवृत्ति का संकेत चिंताजनक है ।

बचपन में मोटापा होने के कारण:

बचपन में मोटापा का मूल कारण कैलोरी खपत और खर्च की गई ऊर्जा के बीच असंतुलन है। भारतीय आनुवंशिक रूप से मोटापा के शिकार होते हैं। हालांकि बचपन में मोटापा में तेजी से वृद्धि काफी हद तक पर्यावरणीय प्रभावों के कारण होती है। आर्थिक समृद्धि पारंपरिक आहार से ‘आधुनिक’ आहार की ओर ले जाती है, जो वसा और चीनी से भरपूर होते हैं। शहरीकरण से गतिहीन जीवन शैली में वृद्धि और शारीरिक गतिविधि में गिरावट आ रही है।

बचपन में मोटापा का स्वास्थ्य पर प्रभाव:

बचपन में मोटापा से गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होती है। मोटे बच्चों में उच्च रक्तचाप, ऑस्टियोआर्थराइटिस, कोलेस्ट्रॉल औरट्राइग्लिसराइड्स, प्रकार -2 मधुमेह, हृदय-धमनी रोग, आघात, पित्ताशय का रोग, श्वसन संबंधी समस्याएं, भावनात्मक गड़बड़ी और कुछ प्रकार के कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है।  तीन में से मोटापे से ग्रस्त दो बच्चें वयस्क होने के बाद भी मोटे ही रहेंगे और हमेशा वयस्क जीवन शैली की बीमारियों का खतरा बना रहेगा। भारत दुनिया में मधुमेह का प्रमुख केंद्र बनने के दिशा में आगे बढ़ता जा रहा है।

बचपन में मोटापे की रोकथाम:

विश्वस्वास्थ संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार बचपन में मोटापा 21वीं सदी की सबसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौतियों में से एक है। बचपन में मोटापा की रोकथाम महत्वपूर्ण है, खासकर जब से हम जानते हैं कि मोटापा का इलाज बेहद मुश्किल है। मोटापा को रोकने के लिए सिद्ध और सरल रणनीतियों में शामिल हैं:

  • फल और सब्जी का सेवन बढ़ाएं।
  • टेलीविजन कम देखना। टेलीविजन देखते समय भोजन करना अतिरिक्त भोजन के सेवन का एक प्रमुख कारण है। टेलीविज़न विज्ञापन बच्चों को फास्ट फूड की ओर ले जाते हैं।
  • चीनी का सेवन कम करें। चीनी को अब नया ‘तंबाकू’ कहा जाता है और इसे हर उम्र में सीमित किया जाना चाहिए। मीठे पेय के बजाय पानी को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये।
  • शारीरिक गतिविधि को प्रोत्साहित करें। सीमित समय और शैक्षिक दबावों के कारण बच्चों में सक्रिय जीवन सुनिश्चित करना संघर्ष पूर्ण कार्य है। माता-पिता को छोटे बच्चों में शारीरिक गतिविधि और बड़े बच्चों में 60 मिनट का रोजाना प्रभावी शारीरिक गतिविधि की सुविधा को सुनिश्चित करना चाहिए।

बच्चों के लिए उनके माता-पिता प्रेरणा स्रोत होते हैं:

  • माता-पिता क्या खाते हैं, उसे बच्चे देखते हैं ! स्वस्थ भोजन में अधिक फल, सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज और बादाम आदि का सेवन करना शामिल है। वसा की संख्या को सीमित करने और संतृप्त वसा से असंतृप्त वसा की सेवन में करने की सलाह दी जाती है। दो साल की उम्र के बाद मक्खन निकाला हुआ दूध (स्किम्ड) दूध का उपयोग किया जाना चाहिये। ताजा खाद्य पदार्थों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये । फास्ट फूड चीनी, वसा और नमक से भरपूर होते हैं और इन्हें खास अवसरों या सप्ताहांत तक ही सीमित रखना चाहिए। नाश्ता और दिन भर खाना अतिरिक्त कैलोरी का एक प्रमुख कारण है। बढ़ते बच्चों के लिए स्वस्थ नाश्ते के विकल्प पहुंच के भीतर होने चाहिए।
  • स्वस्थ भोजन का आचरण बच्चों द्वारा सीखा जाता है। बलपूर्वक और विवश करके किया गया भोजन अक्सर खराब आत्म-नियंत्रण और बाद में अत्यधिक वज़न की ओर ले जाता है। माता-पिता को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि बच्चे भूख लगने पर खाएं, न कि जब वे ऊब या थक गए हों। भोजन को ‘इनाम’ के रूप में हतोत्साहित किया जाना चाहिये।

मोटापा से निपटने के लिए सामुदायिक स्तर पर जागरूकता और शिक्षा महत्वपूर्ण है। नारायण हेल्थ द्वारा प्रबंधित एसआरसीसी – बच्चों का अस्पताल ने अब स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने और बचपन के मोटापे की रोकथाम और उपचार के लिए एक विशेष कार्यक्रम शुरू किया है – एनएचआईसीऐएन: बच्चों की गतिविधि और पोषण में सुधार लाना। इसका लक्ष्य एक्स को पीढ़ी एक्सएक्सएल बनने से रोकना है!

डॉ महेश बालसेकर, बाल चिकित्सा औषधि, एसआरसीसी बच्चों का अस्पताल, मुंबई

Narayana Health

Recent Posts

Box Breathing

"Take a deep breath" is a common phrase people use to console others in anxiety…

2 days ago

Health benefits of Fenugreek seeds

Fenugreek seeds or methi seeds (Trigonella foenum-graecum) are an annual herb and use both as…

3 days ago

Dogs can help reduce stress in Children

It's no doubt that dogs are human's best friends, empathic partners, and most loyal beings.…

3 days ago

Omicron Subvariant – BA.2.75

We all know that the RNA virus of COVID-19 (SARS-CoV-2) is constantly mutating, and new…

4 days ago

Beware: Snoring is not a sign of Good Sleep!

Every one of us must have met people who snore, could be parents, spouse, relatives,…

5 days ago

Types of Knee Replacement Surgery

A knee replacement surgery may be the key to a healthier and more active lifestyle,…

5 days ago