Categories: HindiOncology

रक्त कैंसर – कारण, लक्षण और उपचार

रक्त कैंसर जिसे ल्यूकेमिया के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रकार का कैंसर है, जो रक्त और अस्थि मज्जा से संबंधित है। लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs), सफेद रक्त कोशिकाओं (WBCs), और प्लेटलेट्स सहित रक्त कोशिकाओं की कई श्रेणियां हैं, ल्यूकेमिया डब्ल्यूबीसी के कैंसर से संबंधित है और शायद ही कभी लाल रक्त कोशिकाओं और समयपूर्व प्लेटलेट्स से जुड़े हुए होते हैं। यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। ल्यूकेमिया दो प्रकार के होते हैं – तीव्र और पुरानी ल्यूकेमिया। तीव्र ल्यूकेमिया में, स्थिति विकसित होती है और तेजी से बिगड़ती है, जबकि पुरानी ल्यूकेमिया में, समय के साथ स्थिति बिगड़ती जाती है। ल्यूकेमिया के लिए अलग-अलग उपचार के विकल्प हैं, लेकिन रोगी किस प्रकार के ल्यूकेमिया से ग्रस्त है, इस आधार पर उपचार का तरीका तय किया जाता है।

कारण:

जब सफेद रक्त कोशिकाओं के डीएनए को क्षति पहुंचती है, तो ल्यूकेमिया विकसित होता है। कैंसर की कोशिकाएं अस्थि मज्जा में बढ़ती हैं, जो कि बाल्यावस्था के बाद रक्त उत्पादन का सामान्य स्थल है। यह कैंसर कोशिकाओं के साथ मज्जा के प्रतिस्थापन के कारण स्वस्थ रक्त कोशिकाओं के खराब उत्पादन का परिणाम है। ये नई कोशिकाएं न केवल अस्वस्थ होती हैं, बल्कि असामान्य भी होती हैं और वे सामान्य कोशिकाओं की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहती हैं और उनमें असीमित प्रसार क्षमता होती है। ये कोशिकाएँ अस्थि मज्जा में रहकर स्वस्थ रक्त कोशिकाओं को सामान्य रूप से बढ़ने और कार्य करने से रोकती हैं। इससे रक्त में स्वस्थ कोशिकाओं से अधिक कैंसर की कोशिकाएं मौजूद होती हैं। ल्यूकेमिया के सटीक कारण अभी तक नहीं जाने गये हैं। कई कारकों की पहचान की गई है जो ल्यूकेमिया के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • ल्यूकेमिया का पारिवारिक इतिहास
  • धूम्रपान, जो तीव्र माइलॉयड ल्यूकेमिया (AML) के विकास के जोखिम को बढ़ाता है
  • अनुवांशिक विकार जैसे डाउन सिंड्रोम, फैनकोनी का एनीमिया
  • रक्त विकार, जैसे कि मायलोइड्सप्लास्टिक सिंड्रोम, जिसे कभी-कभी “प्रीलेयूकमिया” कहा जाता है
  • कीमोथेरेपी या विकिरण चिकित्सा द्वारा कैंसर के लिए उपचार
  • विकिरण के उच्च स्तर के संपर्क में रहने से
  • बेंजीन जैसे रसायनों के संपर्क में रहने से

लक्षण:

कौन सी रक्त कोशिकाओं का उत्पादन प्रभावित होता है और कैंसर कोशिकाओं का तेजी से गुणा हो रहा है, इनके आधार पर लक्षण उत्पन्न होते हैं।

  • खून का बहना

रक्त के थक्के बनने में, प्लेटलेट्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। मज्जे के प्रतिस्थापन के कारण, प्लेटलेट उत्पादन प्रभावित होता है। कुछ में, प्लेटलेट के कार्य भी बदल जाते हैं। इसके परिणामस्वरुप आसानी से घाव बनता है या खून बहता है। शरीर पर छोटे लाल और बैंगनी धब्बे बनते हैं जिसे पेटीसिया या इकाईमोसिस कहा जाता है।

  • बार-बार संक्रमण का होना

सफेद रक्त कोशिकाओं के महत्वपूर्ण कार्यों में से एक है शरीर को संक्रमण से बचाना। कई बार, जब सफेद रक्त कोशिकाएं ठीक से काम करने में विफल होती हैं और संख्या में अपर्याप्त होती हैं, तो कोई आसानी से संक्रमण से प्रभावित हो सकता है। एक सामान्य व्यक्ति में साधारण संक्रमण एक ल्यूकेमिक रोगी में जानलेवा बन सकता है। उन्हें बुखार, ठंड लगना, संक्रमण के स्थान पर लालिमा, खांसी या कोई अन्य लक्षण होते हैं इस आधार पर कि कौन सा अंग प्रभावित हुआ है।

  • खून की कमी

आरबीसी की कमी के कारण, एक व्यक्ति खून की कमी का शिकार हो सकता है। कम आरबीसी का मतलब है कि रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी है। जैसे हीमोग्लोबिन शरीर के चारों ओर आयरन का परिवहन करता है, आयरन में किसी भी कमी के परिणामस्वरूप निम्न लक्षण हो सकते हैं:

  • सांस लेने में दिक्कत
  • पीली त्वचा
  • थकान

कभी-कभी, शरीर में आरबीसी के सहज रूप से टूटने के कारण पीलिया हो सकता है।

ये सभी लक्षण अन्य बीमारियों के भी परिणाम हो सकते हैं। यह ल्यूकेमिया है या नहीं, इसकी पुष्टि के लिए परामर्श और परीक्षण की आवश्यकता होती है।

  • हड्डी और जोड़ों में दर्द

यह आम लक्षणों में से एक है जिसे रियुमेटोइड गठिया समझ लिया जा सकता है। हड्डियों में तेज़ दर्द, जोड़ों में दर्द और सूजन आमतौर पर देखी जाती है। यह अस्थि मज्जा में ल्यूकेमिक कोशिकाओं के तेजी से गुणा होने के कारण होता है।

  • अन्य

ल्यूकेमिक कोशिका में रिसाव के कारण मसूड़े की सूजन, रक्तस्राव, दर्द रहित लिम्फ नोड में सूजन, यकृत का बढ़ता आकार, तिल्ली, सिरदर्द, दौरे, सांस लेने में कठिनाई, पीलिया, आदि हो सकते हैं।

उपचार:

ल्यूकेमिया के लिए उपचार व्यक्ति की आयु, उसके स्वास्थ्य और व्यक्ति ल्यूकेमिया के किस प्रकार से पीड़ित है, इस बात पर निर्भर करता है। ल्यूकेमिया के लिए सबसे पसंदीदा उपचार कीमोथेरेपी है। यदि प्रारंभिक चरण में इस उपचार को अपनाया जाता है, तो एक व्यक्ति के स्वस्थ होने की संभावना अधिक होती है।

ल्यूकेमिया के लिए उपचार के प्रकार निम्नलिखित हैं:

कीमोथेरेपी में, IV दवाओं को ड्रिप का उपयोग करके प्रयोग में लाया जाता है। तीव्र ल्यूकेमिया में, बार-बार जांच करने और इंजेक्शन देने के कारण, एक केंद्रीय रेखा रखी जाती है। इनमें दीर्घकालिक उपयोगिता होती है और रोगी को बार-बार चुभन से बचाया जाता हैं। यद्यपि कीमोथेरेपी दवाएं कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करती हैं और मार डालती हैं, वे अन्य गैर-कैंसर कोशिकाओं को भी प्रभावित करती हैं, जिसकी वजह से बालों का झड़ना, वजन घटना और मतली, रक्त कोशिका में कमी जैसे गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं। हालांकि, ये प्रभाव अस्थायी होते हैं और पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। ल्यूकेमिया के प्रकार के आधार पर विभिन्न कीमोथेरेपी उपचार हैं। बच्चों में, तीव्र लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया का 90% और तीव्र मायलोइड ल्यूकेमिया का 70% अकेले थेरेपी से ही ठीक हो जाता है।

  • लक्षित चिकित्सा

लक्षित चिकित्सा में, डॉक्टर कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करने के लिए दवाओं का उपयोग करते हैं। ये दवाएं अन्य कोशिकाओं को प्रभावित किए बिना केवल कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करती हैं, इस प्रकार संभावित दुष्प्रभावों को कम करती हैं। रितुक्सिमाब, इमैटिनिब, दासतिनिब, और निलोटिनिब कुछ ऐसी दवाएं हैं, जिन्हें लक्षित चिकित्सा के तहत इस्तेमाल किया जाता है। एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने इमैटिनिब द्वारा उपचार प्राप्त किया था, उनमें 5 साल तक जीवित रहने की दर लगभग 90% थी।

  • इंटरफेरॉन चिकित्सा

इंटरफेरॉन प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले प्रोटीन का एक परिवार है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं द्वारा बनाया और स्रावित किया जाता है। इंटरफेरॉन शरीर पर आक्रमण करने वाले वायरस, बैक्टीरिया, कैंसर और अन्य बाहरी पदार्थों के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करते हैं। यह चिकित्सा ल्यूकेमिया कोशिकाओं के विकास के लिए एक निवारक के रूप में कार्य करती है और अंततः उनके विकास को रोक देती है। यद्यपि ये ल्यूकेमिया को ठीक करने में मददगार है, लेकिन इस चिकित्सा के गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं।

  • विकिरण उपचार

वयस्कों और 3 वर्ष से अधिक उम्र के कुछ बच्चों के लिए इस तरह के उपचार की सिफारिश की जाती है, जिन्हें तीव्र लिम्फोसाइटिक ल्यूकेमिया (ALL) है।

  • स्टेम सेल का प्रत्यारोपण

इस प्रक्रिया में, कीमोथेरेपी, विकिरण चिकित्सा, या दोनों द्वारा मौजूदा अस्थि मज्जा को नष्ट कर दिया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि अस्थि मज्जा में गैर-कैंसर कोशिकाओं को उत्पन्न करने के लिए नई स्टेम कोशिकाओं का संचार किया जा सके। स्टेम सेल प्रत्यारोपण उच्च जोखिम वाले ल्यूकेमिया वाले लोगों तथा उन लोगों के लिए उपचार का एक प्रभावी विकल्प है जिनके ल्यूकेमिया कीमोथेरेपी के बावजूद जल्दी ठीक नहीं हो पाते हैं। यदि अकेले कीमोथेरेपी द्वारा इलाज किया जाता है तो बाद की स्थितियां घातक हो सकती हैं।

जब किसी मरीज को रक्त कैंसर का पता चलता है, तो रोग के प्रति उनका दृष्टिकोण एक बड़े बदलाव का काम करता है। देखभाल करने वाला परिवार, दोस्त, और रिश्तेदार होने से, जो भावनात्मक, मानसिक, शारीरिक और वित्तीय सहायता देते हैं, रोगियों को बहुत लाभ पहुंचता है। प्रौद्योगिकी में प्रगति होने से, नवाचार विकसित किए जा रहे हैं जो दुनिया भर के सभी कैंसर रोगियों के लिए आशा की एक किरण पैदा करते हैं। सहायक देखभाल में प्रगति ने कैंसर चिकित्सा को कम दर्दनाक बनाया है।

डॉ. शोभा बडिगर | सलाहकार – अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण, हेमाटो-कैंसर विज्ञान, बाल चिकित्सा कैंसर विज्ञान | मजूमदार शॉ मेडिकल सेंटर, बोम्मसंद्रा, बैंगलोर

Narayana Health

Recent Posts

Oral Rehydration

Dehydration is a common complication of childhood illnesses. It can occur due to vomiting, diarrhoea…

1 week ago

Diabetes Mellitus

Diabetes mellitus or “madhumeham”: a disease related to “Sweetness”. The principal hormone, Insulin produced by…

2 weeks ago

Know about uterine fibroids: Signs, Symptoms, Causes and Treatment

Uterine fibroids or leiomyomas or myomas are non-cancerous growths of the uterine muscles. They most…

4 weeks ago

Cervicogenic Headaches

Cervicogenic headaches are 2-3 times more common in females. Many years ago, it was more…

1 month ago

Dos and Don’ts for Healthy Pregnancy

Pregnancy is one of the milestones not only for a mother but for the entire…

1 month ago

All you need to know about Sleep Study

What is a sleep study? How is a Sleep study done? Are sleep studies painful?…

1 month ago