Categories: Paediatrics

नवजात शिशुओं में सामान्य स्वास्थ्य की स्थिति

भारत में नवजात मौतों के प्रमुख कारण प्री-मेच्योरिटी / प्रीटरम (35 प्रतिशत) हैं; नवजात संक्रमण (33 प्रतिशत); इंट्रा-पार्टम संबंधी जटिलताएं / जन्म संबंधी ऐस्फिक्सीअ (20 प्रतिशत); और जन्मजात विकृतियां (congenital malformations) (9 प्रतिशत)। हालांकि पहले से के मुकाबले इन की दरों में गिरावट आई है, लेकिन अभी भी काफी गंभीर है। ये अधिकांश भारत के उन कुछ हिस्सों में ज्यादा हैं जहाँ अभी भी गैर-संस्थागत प्रसवों होते हैं, इसलिए यदि कोई बच्चा किसी भी आपातकालीन स्थिति में पैदा हो तो ऐसे में एक घंटे का गोल्डन टाइम आने – जाने में चला जाता है। ऐसे में फिर उस बच्चे को बचाना काफी मुश्किल हो जाता है। यह अपने आप में एक पूरा विषय है, आज हम इस तरह के उन सभी सामान्य स्थितियाँ जो बच्चों के जन्म को किसी रूप में प्रभावित करते हैं को समझने की कोशिश करेंगे। हम इन्हें रोग नहीं बता रहे हैं लेकिन ये रोग के कारण जरूर बन रहे हैं।

  1. पेट की गड़बड़ी – एक ऐसी स्थिति जब पेट अनुपात से ज्यादा बाहर लटक रहा हो। कब्ज का बने रहना इसका एक लक्षण हो सकता है। बच्चे का पेट छूने में बहुत हार्ड हो। इसका मतलब गैस हो सकता है। लेकिन अगर ये स्थिति बनी रहती है तो यह आंतों के विकार का लक्षण हो सकता है। कोलिक (Colic) के कारण पेट में दर्द भी हो सकता है। रात में ज्यादातर रोने वाले बच्चे या तो कोलिक (Colic) या सांस लेने में तकलीफ से पीड़ित होते हैं।
  2. जन्म के दौरान की चोटें – लंबे समय तक चले प्रसव के मामलों में शिशु को चोट लगने की संभावना रहती है। आमतौर पर किसी एक कंधों में। ऐसा डिलीवरी के दौरान खींचने के कारण होता है। यहां हो सकता है – क्लाविक्ले क्लाविक्ल
  • ब्रोकन क्लाविक्ल – जिसे तब उपचार के लिए स्थिर किया जाता है। साइट पर एक छोटी सी गांठ अच्छी चिकित्सा को दर्शाता है।
  • यूनिलैटरल शोल्डर वीकनेस – जुड़वां बच्चों में सबसे आम है। मांसपेशियों और नर्व स्टिम्युलेटर्स के माध्यम से यह बहुत जल्द ही ठीक हो सकता है।

घायल बच्चे की उचित देखभाल का अभ्यास करने की आवश्यकता है ताकि वे ठीक हो सकें।

  1. डायपर रैश – बेहद सामान्य। अपने से या नारियल का तेल लगाने से ठीक हो जाता है। बच्चे को सूखा और साफ रखें।
  2. डायरिया – बहुत आम। अपने से ठीक हो सकता है। 6 महीने से ऊपर के शिशुओं में चीनी, नमक और जिंक पानी में मिलकर दें। ताकि बच्चे को हाइड्रेटेड रखा जा सके।
  3. पीलिया – एक महत्वपूर्ण लक्षण है जो बिल्कुल सामान्य हो सकता है या फिर जटिलताओं भरा हो सकता है। रक्त में बिलीरुबिन की अधिकता के कारण पीलिया होता है। यह लिवर के विकास में देरी के कारण होता है। इससे नर्व सिस्टम या मस्तिष्क को क्षति पहुँच सकता है। इसके लक्षण चेहरे और फिर पूरे शरीर और आंखों पर भी दिखाई देने लगते हैं। अंतर्निहित स्थितियां फेनिलकेटोनुरिया और एबीओ असंगति हो सकती हैं। ब्रेस्ट फीडिंग के लिहाज से अच्छे पोषण के साथ अल्ट्रा वॉयलेट लाइट ट्रीटमेंट में दिया जाता है।
  4. थकान और थकावट – नवजात को आमतौर पर दिन में 12-18 घंटे चाहिए। लेकिन अगर वे हर समय नींद में रहते हों और भोजन करने के बाद थक जाते हों, तो इसका मतलब गंभीर बीमारी हो सकता है।
  5. सांस लेने में तकलीफ – ज्यादातर शिशुओं को सांस लेने की सामान्य क्रिया में थोड़ा समय लगता है, लेकिन अगर साँस कम होती है, तो तेज़ गति के साथ-साथ कंधे की खराबी या कंधे की खराबी बढ़ जाती है, नाक का फड़कना मतलब अस्थमा या इस तरह के श्वसन तंत्र से संबंधित गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।
  6. खांसी गले की सफाई का एक प्राकृतिक तरीका है, लेकिन यदि यह लक्षण भोजन के दौरान कभी-कभी गैगिंग के साथ रहता है, तो फेफड़े और पाचन तंत्र के में विकार का संकेत हो सकता है।
  7. चिड़चिड़ापन – अगर कोई बच्चा चिड़चिड़ा है और बिना किसी कारण के रोता है तो यह लगभग सभी बीमारियों में मौजूद एक लक्षण है।
  8. फोरसेप मार्क – चेहरे या सिर पर लाल निशान जो अंततः जन्म के एक महीने के साथ गायब हो जाते हैं। इस प्रकार के प्रसवों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है और इसके बजाय एक वैक्यूम का उपयोग किया जाता है जो बच्चे के लिए कोई जोखिम को कम करता है।
  9. ब्लू बेबीज़ – ठंड की वजह से हो सकता है, लेकिन अगर स्थिति कान और नाखूनों में बदलाव के साथ बनी रहती है, तो यह दिल की खराबी का संकेत है। यदि बच्चे को सांस लेने और दूध पिलाना में कठिनाई होती है तो तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है।

यदि इनमें से कोई भी स्थिति 2-3 दिनों से अधिक समय तक बनी रहे तो चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।

यहाँ हमने शिशु में होने वाले सभी परेशानियों को कवर करने का प्रयास किया है। इनमें से ज्यादातर हल्के होते हैं और समय के साथ ठीक हो जाते हैं, इनके बारे में जानना महत्वपूर्ण है, वे कैसे प्रकट होते हैं, कब किसी चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है। इन सब के बारे में जानना इनको ठीक करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

डॉ. प्रियंका जैन, कंसलटेंट – पेडियाट्रिक्स, धर्मशीला नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली

Narayana Health

Recent Posts

Stay Hydrated in Summers

Summer is the hottest of all four seasons. In summer, the day becomes long due…

21 hours ago

Vertigo

Vertigo is a very common disorder which affects “ALL” irrespective of “AGE, GENDER, SOCIAL STATUS,…

3 days ago

Tomato Flu

Recently, a new viral disease called tomato flu detested in some parts of Kerala. All…

4 days ago

Benefits of Red leaf lettuces

Red leaf lettuces (Lactuca sativa) are a group of leafy vegetables of the Daisy family.…

5 days ago

Hypertension

According to WHO, blood pressure is the force exerted by the circulating blood against the…

6 days ago

Flat Feet – Types, Causes and Treatment

The human feet contain numerous muscles, tendons, bones, and soft tissues that enable us to…

7 days ago