Categories: Orthopaedics

आपको जोड़ प्रत्यारोपन की ज़रूरत हैं |

ये सुन कर बहुत से लोग सहम जातें हैं, घबरा जातें हैं।

इस डर का कारण है अज्ञानता । ज्ञान,समझ, और जानकारी मानुष को भय-मुक्त करती है।

ये लेख जोड़ प्रत्यारोपन के विषय में जानकारी देने का एक प्रयास है।

घुटने की संग्राचना/ बनावट

घुटने का जोड़ जाँघ की हड्डी (femur) और पैर की हड्डी (tibia) के बींच होता हैं. दोनों हड्डियाँ आपस में ना रगड़ें इसी लियें दोनों के ऊपर एक मोटी चिकनी परत होती है। ये चिकनाई युक्त परत, जिसे कार्टिलिज (cartilage) कहते है, घुटने की जीवन रेखा होती हैं। ये ना सिर्फ़ कैल्सीयम रहित होतीं है, इसमें दर्द की कोशिकाओ के ना होने की वजह से दर्द का एहसास नहीं होता। इसको लोग आम भाषा में जोड़ की गद्दी, चिकनी हड्डी, गैप, या कभी-कभी oil या तेल भी कहते हैं।

ऑस्टीओआर्थ्रायटिस क्या है

ऑस्टीओआर्थ्रायटिस दो तरह से होता है, एक जो उम्र की वजह से होता है, जो कि ज़्यादातर पाया जाता है, और दूसरा पुरानी चोट या कोई जोड़ की पुरानी बीमारी से होता है। उम्र के साथ, चिकनी हड्डी या कार्टिलिज धीरे-धीरे घिस जाती है, घुटने की हड्डियाँ पास आ कर आपस में रगड़ खाती है। शुरू में कभी-कभी दर्द होता है और फिर कम हो जाता है, बारिश के पहले और ठंड में ये दर्द आमतौर पे बड़ जाता हैं, फिर जब कार्टिलिज काफ़ी कम हो जाता है तो दर्द हमेशा रहने लगता है। एक्सरे में जोड़ का गैप या कार्टिलिज धिकना कम हो जाता हैं। कार्टिलिज की इस कमी को ही ऑस्टीओआर्थ्रायटिस कहते है।

जोड़ प्रत्यारोपन क्यों किया जाता है और क्या होता हैं

जोड़ प्रत्यारोपन मूल तौर पर तीन करणों से किया जाता है 1. दर्द, 2. डिफ़ॉर्मिटी, और 3. इन्स्टेबिलिटी

ओस्टीओआर्थ्रायटिस के अडवांसड़ स्टेज में रोगियों को दर्द हमेशा रहने लगता है, पैर अंदर की तरफ़ मुड़ जातें है। उसकी वजह से उनका जीवन प्रभावित होने लगता हैं। दर्द या तो उन्हें घर में ही क़ैद कर देता है या जीवन दर्द की दवा पर ही चलता है। एक व्यक्ति जिसने पूरी ज़िंदगी अपने दम पे बिताई थी अब वही अपनो पर निर्भर हो जाता है। जोड़ प्रतिरोपण रोगी को ना सिर्फ़ दर्दमुक्त करता है , साथ में एक आत्मनिर्भर ज़िंदगी जीने का मार्ग खोलता हैं| जोड़ प्यतारोपन एक ऑपरेशन है जिसमें जोड़ के घिसें हुएँ और ख़राब कार्टिलिज को हटा कर नए कृत्रिम कार्टिलिज से बदल दिया जाता है, जो कि धातु और पॉलेमर से बनते हैं। असल में जोड़ प्रत्यारोप, जोड़ नहीं कार्टिलिज प्रत्यारोपन होता है।

यें एक बहुत ही सुरक्षित ऑपरेशन है, जिसे बिना बेहोशी केवल पैर को सुन कर के किया जाता है। और क्योंकि जेनरल एनेसथीसिया की ज़रूरत नहीं पड़ती, ज़्यादा उम्र के लोग भी ये ऑपरेशन करा सकते हैं। आम तौर पर 50 से 80 की उम्र के लोगों को इसकी ज़रूरत पड़ती हैं।

ऑपरेशन के अगले ही दिन से मरीज़ चलने लागतें हैं, और चार से पाँच दिनों में अपने घर जा सकते हैं।

किसे करना चाहिए और कब करना चाहिए

जब घुटने का दर्द चलने पर हमेशा रहने लगे, और इस दर्द की वजह से व्यक्ति अपनी दिनचर्या पूरी करने में असमर्थ महसूस करने लगे, और x-ray में कार्टिलिज की कमी साफ़ दिखें तब हम कहेंगे की ऑपरेशन का सही वक़्त आ गया। कभी-कभी दर्द कम हो लेकिन घुटनो के टेढ़ेपन की वजह से व्यक्ति अपने काम स्वयं करने में असमर्थ हो जाए तो ऑपरेशन से फ़ायदा पहुँचाया जा सकता है।

ऑपरेशन के लिए सबसेअच्छी उम्र 50 से 80 वर्ष होती हैं, लेकिन ज़रूरत पड़ने पर कम उम्र में भी ये करतार सिद्ध हुआ है और स्वस्थ हो तो 90-95 साल के लोगों का भी ऑपरेशन सम्भव है।

कहाँ होसकता है जोड़ प्रत्यारोपन

आज टेक्नालोजी का दौर हैं, 20-25 साल पहलें ये टेक्नालोजी विदेशों में ही सम्भव थीं। फिर 15-16  साल पहले ये भारत के महानगरों में पहुँची, और ये ऑपरेशन केवल महानगरों में ही संभव था। आज टेक्नालोजी का प्रवाह एसा है की नयीं चीज़ें विदेशों में बनते ही भारत के छोटें शहरों में भी उपलब्ध हो ज़ाती है। ठीक इसी तरह जोड़ प्रत्यारोपन की टेक्नालोजी अब महानगरों के अलवा बाक़ी शहरों में भी पहुँच चुकी हैं।

लोग अब इन शहरों में धक्के ख़ाने की बजाय अपने ही शहर में इलाज करा रहें है। महानगरों से अब बड़े अस्पताल इन शहरों पर ताक लगाएँ हैं, और धीरे-धीरे इनकी तरफ़ रूख कर रहें है।

डॉ अंकुर गुप्ता | कंसल्टेंट – ओर्थोपेडिक्स | एनएच एमएमआइ नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, रायपुर

Narayana Health

Recent Posts

Endocrine Hypertension: Common yet under reported cause of Hypertension

Hypertension affects around 25% of the population worldwide this every 1 in 4 adults have…

5 days ago

Different Signs of Heart Attack in Men & Women

85% of heart damage occurs in the first two hours following a heart attack. Such…

1 week ago

Understanding Radiation in Cancer Treatment

Radiation therapy is the use of high energy rays to damage cancer cells DNA &…

1 week ago

Physical Growth of Infants & Children and the milestones

Your Child’s Growth & Developmental Milestones Children are a great source of happiness for their…

1 week ago

Ovarian Cysts

A fluid-filled sac or pocket in an ovary or on its surface is called ovarian…

1 week ago

Women & Heart Diseases

Heart disease isn’t just a single disease but refers to a group of conditions that…

1 week ago